Hindi

Stories in Hindi language

The Road to Salvation – Mukti Marg

Whenever Jhingur looked at his cane fields a sort of intoxication came over him. He had three bighas of land which would earn him an easy 600 rupees.

वाङ्चू

तभी दूर से वाङ्चू आता दिखाई दिया। नदी के किनारे, लालमंडी की सड़क पर धीरे-धीरे डोलता-सा चला आ रहा था। धूसर रंग का चोगा पहने था और दूर से लगता था कि बौद्ध भिक्षुओं की ही भाँति उसका सिर भी घुटा हुआ है। पीछे शंकराचार्य की ऊँची पहाड़ी थी और ऊपर स्वच्छ नीला आकाश। सड़क के दोनों ओर ऊँचे-ऊँचे सफेदे के पेड़ों की कतारें। क्षण-भर के लिए मुझे लगा, जैसे वाङ्चू इतिहास के पन्नों पर से उतर कर आ गया है।

ओ हरामजादे

घुमक्कड़ी के दिनों में मुझे खुद मालूम न होता कि कब किस घाट जा लगूँगा। कभी भूमध्य सागर के तट पर भूली बिसरी किसी सभ्यता के खंडहर देख रहा होता, तो कभी यूरोप के किसी नगर की जनाकीर्ण सड़कों पर घूम रह होता। दुनिया बड़ी विचित्र पर साथ ही अबोध और अगम्य लगती, जान पड़ता जैसे मेरी ही तरह वह भी बिना किसी धुरे के निरुद्देश्य घूम रही है।

Power of a Curse – Garib Ki Hai

In a village of Chandpur Munshi Ramsevak was a very rich man. He could be seen every day seated on a broken bench under a neem tree within the precincts of the open- I~ air small-pleas court. Nobody had ever seen him presenting a brief before the tribunal or arguing a case; but everyone called him 'attorney'. Whenever he made his way to the open court the villagers crowded after him. He was regarded by everyone with respect and trust, and he was renowned for possessing the eloquence of the divine Saraswati herself.

Big Brother – Bade Bhai Sahib

My big brother was five years older than me but only three grades ahead. He'd begun his studies at the same age I had but he didn't I like the idea of moving hastily in an important matter like education. He wanted to lay a firm foundation for that great edifice, so he took two years to do one year's work; sometimes he even took three. If the foundations weren't well-made, how could the edifice endure?

January Night – Poos ki Raat

Halku came in and said to his wife, “The Landlord’s come! Get the rupees you set aside, I’ll give him the money. Munni had been sweeping. She turned around and said, 'But there's only three rupees. If you give them to him where's the blanket going to come from? How are you going to get through these January nights in the fields! Tell him we'll pay him after the harvest, not right now.

फैसला

उन दिनों हीरालाल और मैं अक्सर शाम को घूमने जाया करते थे। शहर की गलियाँ लाँघ कर हम शहर के बाहर खेतों की ओर निकल जाते थे। हीरालाल को बातें करने का शौक था और मुझे उसकी बातें सुनने का। वह बातें करता तो लगता जैसे जिंदगी बोल रही है। उसके किस्से-कहानियों का अपना फलसफाना रंग होता। लगता जो कुछ किताबों में पढ़ा है सब गलत है, व्यवहार की दुनिया का रास्ता ही दूसरा है। हीरालाल मुझसे उम्र में बहुत बड़ा तो नहीं है लेकिन उसने दुनिया देखी है, बड़ा अनुभवी और पैनी नजर का आदमी है।

Car-Splashing – Motor ke Chinte

Well it’s like this: early in the morning I finish off my bath and my prayers, paint a vermillion circle on ;my forehead, get into my yellow robe and wooden sandals, tuck my astrological charts under my arm, grab hold of my stick a regular skull-cracker--and start out for a client's house. I was supposed to settle the right day for a wedding; it was going to earn me at least a rupee. Over and above the breakfast. And my breakfast is no ordinary breakfast. Common clerks don't have the courage to invite me to a meal. A whole month of breakfasts for them is just one day's meal for me.

चीफ की दावत

आज मिस्टर शामनाथ के घर चीफ की दावत थी। शामनाथ और उनकी धर्मपत्नी को पसीना पोंछने की फुर्सत न थी। पत्नी ड्रेसिंग गाउन पहने, उलझे हुए बालों का जूड़ा बनाए मुँह पर फैली हुई सुर्खी और पाउड़र को मले और मिस्टर शामनाथ सिगरेट पर सिगरेट फूँकते हुए चीजों की फेहरिस्त हाथ में थामे, एक कमरे से दूसरे कमरे में आ-जा रहे थे।