Harivansh Rai Bachchan

There are 22 articles in this category

Jivan Mein Ek Sitara Tha

जीवन में एक सितारा था माना बेहद वो प्यारा था यह डूब गया तो डूब गया अम्बर के आनन को देखो कितने इसके तारें टूटे

Jivan Ki Apadhapi Mein

जीवन की आपाधापी में कब वक़्त मिला कुछ देर कहीं पर बैठ कभी यह सोच सकूँ जो किया, कहा, माना उसमें क्या बुरा भला।

Hai Andheri Raat Par Diva Jalana Kab Mana Hai

कल्पना के हाथ से कमनीय जो मंदिर बना था भावना के हाथ ने जिसमें वितानों को तना था स्वप्न ने अपने करों से था जिसे रुचि से सँवारा स्वर्ग के दुष्प्राप्य रंगों से, रसों से जो सना था

Kshana Bhar Ko Kyo Pyar Kiya Tha?

अर्द्ध रात्रि में सहसा उठकर, पलक संपुटों में मदिरा भर, तुमने क्यों मेरे चरणों में अपना तन-मन वार दिया था? क्षण भर को क्यों प्यार किया था?

Tha Tumhein Maine Rulaya!

हा, तुम्हारी मृदुल इच्छा! हाय, मेरी कटु अनिच्छा! था बहुत माँगा ना तुमने किन्तु वह भी दे ना पाया! था तुम्हें मैंने रुलाया!

Lo Din Bitaa, Lo Raat Gayi

लो दिन बीता, लो रात गई, सूरज ढलकर पच्छिम पहुँचा, डूबा, संध्या आई, छाई, सौ संध्या-सी वह संध्या थी, क्यों उठते-उठते सोचा था, दिन में होगी कुछ बात नई। लो दिन बीता, लो रात गई।

Mujhe Pukaar Lo

मुझे पुकार लो इसीलिए खड़ा रहा कि तुम मुझे पुकार लो! ज़मीन है न बोलती न आसमान बोलता, जहान देखकर मुझे नहीं जबान खोलता,

Sathi Sab Kuch Sahna Hoga!

मानव पर जगती का शासन, जगती पर संसृति का बंधन, संसृति को भी और किसी के प्रतिबंधों में रहना होगा! साथी, सब कुछ सहना होगा!

Kis Kar Mei Yah Bina Dhar Du

देवों ने था जिसे बनाया, देवों ने था जिसे बजाया, मानव के हाथों में कैसे इसको आज समर्पित कर दूँ? किस कर में यह वीणा धर दूँ?